Ye Saal Bhi Gujar Gaya| ये साल भी गुजर गया | Poem by Shubham Shyam

Ye Saal Bhi Gujar Gaya| ये साल भी गुजर गया | Poem by Shubham Shyam

Ye Saal Bhi Gujar Gaya | Poem by Shubham Shyam

Also read

Khushi bhi guzar gai malal bhi guzar gaya

 Khushi bhi guzar gai malal bhi guzar gaya

Guzarte guzarte ye sal bhi guzar gaya

Uske lot aane ki dhundli magar umeed to thi

Guzarte sal sangh vo khayal bhi guzar gaya

Chan ki neend to hai rato ko

Par aankho se khvab guzar gaya

Din ka suraj to chamakta hai jeevan me

Rato ka mahtab guzar gaya

Bahut kuch kahna tha tujhse bahut kuch sunna tha

Bahut kuch kahna tha tujhse bahut kuch sunna tha

Tere kahe sabdo me apna sa matlab chunna tha

Par vo jigyasa bhi guzar gai, puchne ka kal bhi guzar gaya

Par vo jigyasa bhi guzar gai, puchne ka kal bhi guzar gaya

Guzarte guzarte ye sal bhi guzar gaya

Main ishk ka saval liye khadaa rha magar

Main ishk ka saval liye khadaa rha magar

Tere javabo ke aabhav me vah saval hi gujar gya


ख़ुशी भी गुजर गई, मलाल भी गुजर गया
ख़ुशी भी गुजर गई, मलाल भी गुजर गया
गुजरते गुजरते यह साल भी गुजर गया

ख़ुशी भी गुजर गई, मलाल भी गुजर गया
ख़ुशी भी गुजर गई, मलाल भी गुजर गया
गुजरते गुजरते यह साल भी गुजर गया

उसके लौट आने की धुंधली मगर उम्मीद तो थी
उसके लौट आने की धुंधली मगर उम्मीद तो थी
गुजरते साल संघ वो ख्याल भी गुजर गया

अब चैन की नींद है रातो को
पर आँखों से ख्वाब गुजर गया
दिन का सूरज तो चमकता है जीवन में
रातों का मेहताब गुजर गया
बहुत कुछ कहना था तुझसे बहुत कुछ सुनना था
बहुत कुछ कहना था तुझसे बहुत कुछ सुनना था
तेरे कहे शब्दों में अपना सा मतलब चुनना था
पर वो जिज्ञासा भी गुजर गई, पूछने का काल भी गुजर गया
पर वो जिज्ञासा भी गुजर गई, पूछने का काल भी गुजर गया
गुजरते गुजरते यह साल भी गुजर गया
मैं इश्क़ का सवाल लिए खड़ा रहा मगर
मैं इश्क़ का सवाल लिए खड़ा रहा मगर
तेरे जवाबों के आभाव में वह सवाल ही गुजर गया.

Also Checkout

shubham shyam poetry


Post a Comment

0 Comments