Karn Ki Kahani by Abhi Munde(PYSCHO SHAYAR) | Shayari on Mahabharat

Karn Ki Kahani by Abhi Munde(PYSCHO SHAYAR)-Poetry

Karn Ki Kahani by Abhi Munde(PYSCHO SHAYAR) Poetry



पांडवों को तुम रखो, मैं कौरवों की भीड़ से

तिलक शिकस्त के बीच में जो टूटे ना वो रीड मैं

सूरज का अंश होकर फिर भी हूँ अछूत मैं

आर्यावर्त को जीत ले ऐसा हूं सूत पुत्र मैं

कुंती पुत्र हूं मगर न हूं उसी को प्रिय मैं

इंद्र मांगे भीख जिससे ऐसा हूं क्षत्रिय मैं

आओ मैं बताऊं महाभारत के सारे पात्र ये

भोले की सारी लीला थी, किशन के हाथ सूत्र थे

बलशाली बताया जिन्हें वह सारे राज पुत्र थे

काबिल दिखाया बस लोगों को ऊंची गोत्र के,

सोने को पिघलाकर डाला शोन तेरे कंठ में

नीची जाति होकर किया वेद का पठन तूने

यही था गुनाह तेरा, तु सारथी का अंश था

तू क्यों छुपे मेरे पीछे, मैं भी उसी का अंश था

ऊंच-नीच की जड़ वह अहंकारी द्रोण था

वीरों की उसकी सूची में, अर्जुन के सिवा कौन था।

माना था माधव को वीर, तो क्यों डरा एकलव्य से

मांग के अंगूठा क्यों जताया, पार्थ भव्य है

रथ पर सजाया जिसने कृष्ण हनुमान को,

योद्धाओं के युद्ध में लड़ाया भगवान को,



ऊंचे-ऊंचे लोगों में मैं ठहरा छोटी जात का

खुद से ही अनजान में ना घर का ना घाट का

सोने का सा था तन मेरा,अभेद्य मेरा अंग था,

कर्ण का कुंडल चमका लाल निले रंग का

इतिहास साक्षी है योद्धा में निपुण था

बस एक कमजोरी थी मैं वचनों का शौकीन था

अगर ना दिया होता मैंने वचन वो कुंती माता को,

तो पांडवों के खून से मैं धोता अपने हाथ को

साम दाम दंड भेद सूत्र मेरे नाम का

गंगा मां का लाडला में खामखा बदनाम था

कोरवो से होकर भी कोई कर्ण को ना भूलेगा,

सुनकर मेरा दुख वो कर्ण-कर्ण बोलेगा

भास्कर पिता मेरे हर किरण मेरा स्वर्ण है।,

वर्ण में अशोक में तू तो खाली पण है

कुरुक्षेत्र की उस मिट्टी में मेरा भी लहू जीर्ण है

देख छान के उस मिट्टी को कण-कण में कर्ण हैं।


Paandavon ko tum rakho, Main kauravon ki bheed se

tilak shikast ke bich me jo toote na vo rid mein

sooraj ka ansh hokar phir bhi hu achoot mein

aaryaavart ko jeet le aisa hoon soot putr mein

kunti putr hun magar na hun usi ko priy mein

indr maange bheekh jisse aisa hun kshatriya mein

aao main bataoon mahaabhaarat ke saare paatr ye

bhole ki sari leela thi, krishn ke haath sootr the

balashaali bataaya jinhe vo saare raj putr the

kaabil dikhaaya bas logo ko unchi gotr ke

sone ko pighalaakar daala shon tere kanth mein

nichi jaati hokar kiya ved ka pathan tune

yahi tha gunaah tera, tu saarathi ka ansh tha

tu kyo chipe mere peechhe, main bhi usi ka ansh tha

oonch-neech ki jad va ahankaari dhron tha

veero ki uski soochi mein, arjun ke siva kon tha.

maana tha maadhav ko veer, to kyo dara ekalavy se

maang ke angootha kyon jataaya, parth bhavy hai

rath par sajaaya jisne krishan hanumaan ko,

yoddhaon ke yuddh mein ladaaya bhagavaan ko,

nandlal teri dhal piche anjanay the, niyati kathor thi jo dono andhaniye the,

oonche oonche logon mein thahara chhotee jaat ka

khud se hee anajaan mein na ghar ka na ghaat ka

sone ka sa tha tan mera, abhedy mera ang tha,

karn ka kundal chamaka laal nile rang ka

itihaas saakshee hai yoddha mein nipun tha

bas ek kamajoree thi main vachanon ka shaukeen tha

agar na diya hota mainne vachan kuntee maata ko,

to paandavon ke khoon se dhota mein apane haathon ko

saam daam dand bhed sootr mere naam ka

ganga maan ka laadala mein khaana kha badanaam tha

koravo se hokar bhee koi karn ko na bhoolega,

sunakar mera dukh karn karn bolega

bhaaskar pita mere har kiran mera svarn hai,

mein to ashok too to khaalee varn hai

kurukshetr ki is mittee mein bhi lahoo chhedan hai

dekh chhaan is mittee ko kan-kan mein karn hain

Post a Comment

0 Comments