Nazar ko sharab likhna chahti hu poetry by Nidhi Narwal

Nazar ko sharab likhna chahti hu poetry by Nidhi



 की नजर चढ़ती है खूब

नजर को शराब लिखना चाहती हू .२

नजर अच्छी नहीं है जमाने की नजर को खराब लिखना चाहती  हु 


Ki nazar chdthi hai khub 

Nazar ko shrab likhna chathi hu 

Njar aachi nhi hai jmane ki najr ki khrab likhna

Chathi hu 



जमाने का पता नहीं मेरी नजर तो है ही खराब

Jmane ko patha nhi mere njar tho hai he khrab 


नजर का इंतजार करती है नजरें

नजर को किताब लिखना चाहती हूं ..२

नजर इजहार आई है बनकर

नजर को गुलाब लिखना चाहती हु

Njar ka intezaar krethe hai njre 

Njar ko kitab likhna chathi hu 

Njar izhar aayi hai banker 

Njar ko gulab likhna chathi hu 


नजर तेज लहर सी है 

नजर को सेलाब लिखना चाहती हूं

नजर पड़ी जाती है नजर को किताब लिखना चाहती हूं

Njar tej lhar se hai 

Njar ko selab likhna chathi hu 

Njar pdi jathi hai njar ko kitab likhna chathi hu 



नजर कितनों से मिली है उसकी

वैसे तो कोई गिनती नहीं है लेकिन नजर का हिसाब रखना चाहती हूं  ..२

नजर से मारे गये है आशिक नजर को तेजाब लिखना चाहती हूं

Njar kitno se mili hai iski 

Vese tho koi ginti nhi hai lekin njar ka hisab rakhna chathi hu 

Njar se mare gye hai aashiq njar ko tejab likhna chathi hu 


नजरों ने सवाल किए हैं मुझसे

नजर का जवाब लिखना चाहती हूं..२

नजर के पीछे रहता है मकसद

नजर को नकाब लिखना  चाहती हूं 

Nzro ne swal kiye hai mujse 

Njar ka jwab likhna chathi hu 

Njar k piche rhtha hai mksad 

Njar ko nkab likhna chathi hu

Post a Comment

0 Comments