Tumhare dulhe ko ek tohfa dange Poetry by Mickey Singh | Best love heart meltig poetry by Mickey Singh

Tumhare dulhe ko ek tohfa dange Poetry by Mickey Singh


इनायत मतलब फिक्र

 रियायत मतलब हामि 

Inayath mtlb fikrh 

Rihayath mtlb haami 


तो ख्याल है कह दो मुझे कितना ही खुदगर्ज तुम मुझे पर जान कहीं ना कहीं इनायत तुम्हारी भी होगी

वह ऐसे ही नहीं उतार रहा तुम्हारे पहने हुए लिबास को

झूठ मत बोलो रियायत तुम्हारी भी होगी 

और रकीब अकेला नहीं शामिल मेरी मोहब्बत के कत्ल में ..२

पूछा जाएगा उससे तो शिकायत तुम्हारी भी होगी

प्यार से तो क्या बात करने का दिल ही नहीं करता बाकी लहजे में अदब हम जानते हैं

Tho khyaal hai kh do muge kitna he khudgarj thum muge or jaan khi na khi inayath thumhari bhi hogi 

Vh ase he nhi otar rha tumhare phone hua libaas ko jut math bolo rihayath tumhari bhi hogi 

Or rakib akela nhi shamil mere mohbbath k ktlh me , pucha jayega tho shikayath tumhari bhi hogi 

Pyar se tho kya bath krene ka dil he nhi kretha baki lahje mai adab hm janthe hai 


घर वाले नहीं मानेंगे मगज बहाने थे

तुम्हारा हमसे जुदा होने का हर सबक जानते हैं

तो ख्याल था सुना है एक फरमाइश पर तुम्हारी पसंद का एक लहंगा लेकर आए 

Gr vaale nhi manenge magh bhane the 

Tumhare hmse juda hone ka hr sbk janthe hai

Tho khyaal tha suna hai ek frmahish pr thumhari psd ka ek lahnga leker aaye 


अब तो तुम्हारा मुझे भूलना लाजमी लगता है 

जब वह शख्स हार गले का महंगा लेकर आएगा

चलो हमारी तरफ से भी ढेरों बंधुआए तुम्हें 

वह शादी करने जा रही है तो तोहफा हमारी तरफ से 

चलो हमारी तरफ से भी ढेरों बंधुआए तुम्हें मगर तुम्हारे दूल्हे को तोहफा बड़ा ही खूब देंगे 

ना चाहते हुए भी कटेंगे दिल अपना और उसमें से निकाल कर अपनी महबूब देंगे

Ab tho thumhar muge bhulena lajmi lgtha hau 

Jb vh shksh haal gle ka mahnga leker aayega 

Chalo hmari trafh se dehro bdduaye thumhe 

Vh shadi krene ja rhi hai tho thohfa hmari traf se 

Chlo hmari or se dhero bdduaye thumhe mgar thumhare dulhe ko thohfa bda he khub denge 

Na chathe hua bhi katenge dil apna or osme se nikal kr apni mahbub denge  


याद रखना तुम्हारे यार पर भी हमारा एक कर्जा रहेगा..२

विदा करेगा खुशी से अपनी साहिबा को 

बदनसीब ताउम्र यह मिर्जा रहेगा ।

Yaad rakhna thumhare yaar pr bhi hmara ek karja rhega 

Vida krega khushi se apni sahiba ko 

Bdnasib thaomrh yh mirja rhega 


उसे कहो दिल तोड़ दे बेशक मगर किसी गैर की महफ़िल में शिरकत ना करें 

रुखसत होकर हमसे इस गली के भूखे भेड़ियों की हवस में बरकत ना करें ..२

और कल कुछ गलत हो गया तो हम सह नहीं पाएंगे

उसे कहो नाराज रहे गिन्होनि हरकत ना करें 

Ose kho dil thod de beshak mgar kise ger ki mehfil mai shirkath na kre 

Suksath hoker hmse es gli k bhukhe bediyo ki hvas mai brkath na kre 


जवानी चढ़ी है अब महबूब पर

यह जो मना रही हो साथ गैरों के , जान तुम्हें तुम्हारी जवानी मुबारक ..२ 

Jvani chdi hai ab mhbub pr 

Yh jo mna rhi ho sath gero k , jaan thumhe thumhari jvani mubarak 


हमारा क्या है हमारी आंखों से गिरते हुए आंसुओं की रवानी मुबारक 

की पाक मोहब्बत का सरेआम कत्ल करके तुम्हारी जिंदगी में आया हुआ सहानि मुबारक  

हमारा एतराम तुम्हें राज नहीं आया , तुम्हें तो जिस्म के भूखो उनकी छेड़खानी मुबारक 

हमारी पहनाई गई पायल फेंक दी तुमने

चलो रकीब के हाथों पाई गई गानी मुबारक 

रूह से चाहने के काबिल नहीं तुम , तुम्हें तो प्यार जिस्मानी मुबारक मेरे जज्बात बेचकर तुम्हारे गले पर दी हुई उसकी निशानी मुबारक 

और आखिर में इस आवारा रान्जे को बुरे अंजाम से खत्म हुई कहानी मुबारक

Hmara kya hai hmari aakhi se girte hua aasuon ki rvani mubarak 

Ki paak mohhbath ka sareaam Kttle kre k tumhari zindgi mai aaya hua shani mubarak 

Hmara athraam tumhe raaj nhi aaya , tumhe tho jism k bhuko ki chedkani mubarak 

Hmari phnai gyi payal fek di tumne 

Chlo rakib k haatho paye gyi gaani mubarak 

Ruh se chane k kaabil nhi thum , thumhe tho pyar jismaani mubarak mere jajbath bechkar thumhare gle pr di hui oski nishani mubarak 


Or aakhir mai es aavara ranje ki bure anjam se khtham hui khani mubarak

Post a Comment

0 Comments