Na tum mile hote na ishq hua hota | Poetry by Divya Gupta

Na tum mile hote na ishq hua hota | Poetry by Divya Gupta


लिखा है तुम्हें तुम्हें बताएं बिना ..

तुम पढ़ लेना हर एहसास जताए बिना..२

चूम लेना लिखी लकीर इतराए बिना .२

जैसे चूमते हो हमारी तस्वीर शर्माए बिना 

Ki likha hai tumhe thumhe btaye bina

Thum pd lena hr ahsaas jtate bina

Chum lena likhi lakir itraye bina

Jese chumthe ho hmari tasvir sharmaye bina


कि मुस्कुरा देना धड़कन से पलके भिगाय बिना

जैसे मुस्कुराते हो हमें देख दिखाएं बिना 

Ki muskura dena dhadkan se plje bhigate bina 

Jese muskurathe hi hme dekh dekhaye bina



और चाहते हो कितना ये मालूम है मुझे

अब वह रिश्ता जो जोड़ दे तुमसे मुझे निखरना 

इश्क में तुम बिखरने की बात छोड़ो

जैसा निकलता है कोई हीरा पछताए बिना

मैंने लिखा है तुम्हें बताएं बिना तुम पढ़ लेना लकीर जताए बिना 

Or chathe ho kitna ye malum hai muge 

Ab vh rishtha jo jod de thumse muge nikharna 

Ishq mai thum bikharne ki bath chodo 

Jese nikaletha hai koi Hera pachthaye bina 

Mene likha thumhe btaye bina thum pd lena lakir jtaye bina 


कि गुजर गया वह जमाना जब एक लंबा इंतजार होता था

धड़कन बढ़ जाती थी संग लिफाफे डाकिए का दीदार होता था ।

Ki gujar gya vh jmana jb ek lamba intezaar hotha tha 

Dhadhkan bd jathi thi sang lifafhe dakiye ka Didar hotha tha 


संग लिफाफे डाकिए का दीदार होता था उनके हाथों से लिखी चिट्ठी से मोहब्बत इजहार होता था 

शाही कि उन बूंदों से हर लिखा लफ्ज़ ..२

दिल के आर पार होता था

जब प्रेम फकत रूह का नहीं 

पाक रूह का तलब दार होता था 

गुजर गया वह जमाना जब प्यार असल में प्यार होता था

मसरूफ होगा वह भी मेरे जनाजे में हां इतना है रोएगा नहीं

उस रात आंखें बंद करेगा सोने को हां इतना है खुशी के मारे सोएगा नहीं ।

Sang lifafhe dakijiye ka fidar hotha tha onke haatho se likhe chitti se mohhbath izhaar hotha tha 

Shahi ki on bundo se hr likha lafj 

Dil k aar part hotha tha 

Jb pream fksth ruh ka nhi 

Pak ruh ka tlabdaar hotha tha 

Gujar gya vo jmana jb pyar asal mai pyar hotha tha 

Mashroof hoga vh bhi mere jnaje mai ha itna hai royega nhi 

Os raath aakhe band krega sone ki ha itna hai khushi k maare soyega nhi 


की नजर पर देख लो तुझे एक बार मिलना है ।

मैं मुरझाई कली को एक बार खिलना है ।

धरती धड़कन ए रुखसत जो ले इस जिस्म से मेरे

मुझे तेरी खबर लेकर सौ बार मरना है 

Ki njar pr dekh lo tuge ek baar milena hai 

Mai murjai kli ko ek baar khilna hai

Dhrathi dhadhkan a ruksath jo le es jism se mere 

Muge tere khbar leker soo baar mRNA hai 


की बा दस्तूर तुम शिद्दत की शक्ल लेते हुए

मैं बना वैसा ही जैसे तुम कहते गये 

Ki ba dastoor thum shifdath ki shakle Lethe hua 

Mai bna vesa he jese thum khathe gye 



मैंने सक्ति से धड़कनों को थामा था 

मैंने तो तुमको अपना सब कुछ माना था

मसला यहां जिस्म की भुख को मिटाना था

मुसलसल इश्क मोहब्बत तो सिर्फ एक बहाना था

खूंटी पर टंगा हुआ मेरा दिल जिसके जख्म बस्सिल के रखे थे

तुम रोनद गए बड़ी बेरहमी से 

क्या इस दुखियारी को दर-दर तड़पाना ही था 

ऊपर से तुम निकले मुसाफिर..२

ख्वाब हजार तुम्हे हमारे छोटे से गांव में शहर थोड़ी बसाना था

Mane sakthi se dhadkano ko thama tha 

Mane tho thumko apna sb kuch mana tha 

Mala tha jism ki bhukh ko mitana tha 

Muslsl ishq mohabbat tho sirf ek bhana tha 

Khuti pr tanga hua mera dil jiske jkham bail k rakhe the 

Thum rondh gye bdi behrahmi se 

Kya es dukhiyare ko dr Dr tadpana he tha 

Uper se thum nikle musafir 

Khvaab hzar thumhe hmare chote se gav mai shar thodi bsana tha 




कि तुम ना मिले होते ना इश्क हुआ होता

ना शिकवा जिंदगी से ना गिला होता

ना सुनसान राते होती ना खामोशी ने होठों को सिया होता

ना तुम मिले होते ना इश्क हुआ होता

ना ख्वाबों में तुम आते हैं ना ख्यालों में हर पल सताते

ना ये सिलसिला तुम हम जमाने को

इस कदर सुनाते 

ना यादें बनी होती ना किस्सा खफा होता 

कि ना तुम मिले होते और ना इश्क हुआ होता


Ki thum na mile hothe na Ishq hua hotha 

Na shikva zindgi se na gila hotha 

Na sunsaan rathe hothi na khamoshi se hotho ko siya hotha 

Na thum mile hothe na Ishq hua hotha 

Na khvaabo mai thum aathe na khyaalo mai hr pal sthathe 

Na ye silsila thum hm jmane ko es kdar sunathe

Na yaade bni hothi na kissa khfa hotha 

Ki na thum mile hothe or na Ishq hua hotha

Post a Comment

0 Comments