Mat kahna shreeram bura hai Poetry by Viraj Naik

Jmin k pass akhir aasmaan kha hai poetry



जमीन के पास आखिरी आसमान कहां है

इस जमीन के पास भी आसमान कहां है

भगवान हम सब पर भी तो मेहरबान कहां है

Jmin k pass akhir aasmaan kha hai

Es jmin k pass bhi aasmaan kha hai 

Bhagvan hm sb bhi mehraban kha hai 


शेर यह है कि मेरे साथ में तो तन्हाई भी रहती है यहां ..२ 

यह मेरे अकेले का तो मकान कहां है

तुमने कहा कुछ , मैंने समझा कुछ

हमारे बीच वह पहले वाली जबान कहां है

Sher yh hai ki mere sath mai thi tnhai bhi rhthi hai yha 

Yh mere akele ka tho mkan kha hai 

Tumne kha kuch , mene smja kuch 

Hmare bich vo phle vali jban kha hai 


जिसने कभी अपने अंदर ढूंढा ही नहीं ..२

वही फिर पूछते हैं कि भगवान कहां है

Jisne kabhi apne ander dhudha he nhi 

Vhi fir puchthe hai ki bhagvaan kha hai 


यह रिश्ते में खड़ी नहीं दीवार कौन करें ..२

फरियाद आपसे बार-बार कौन करें

एक जैसी गलती लगातार कौन करें

खुद ही बर्बाद अपना घर कौन करें 

Yh rishtey mai khdi nhi divar kon kre 

Fhriyaad aapse bar bar kon kre 

Ek jese glthi lgathar kon kre 

Khud he barbad apna gr kon kre 


एहसान होगा

एक ही बार में मार दो मुझे ..२

यु बार-बार मुझको बीमार कौन करें

जब जरूरत होती है तभी चले जाते हो

इस तरह तो रिश्ता बरकरार कौन करें

Ahsaan hoga 

Ek he bar mai mar do muge 

Yu bar bar mujko bimar kon kre 

Jb jrurath hothi hai thabhi chle jathe ho

Es trah tho rishta barkrar kon kre 


अपनी गलती पर तुरंत माफी मांग लेना

ये फिर से एक नया दुश्मन कौन तैयार करें

इस जहान में सैकड़ों लोग हैं लेकिन

खुदा के अलावा मेरा इंतजार कौन करें ।

Apni glthi pr turant mafi mang lena 

Ye fir se ek nya dushman teyaar kon kre 

Es jhan mai sekdo log hai lekin 

Khuda k alava mera intezaar kon kre 


तमन्ना है एक दिन तू मेरे संग हो जाए..२

यह देख कर मुझे देखने वाले दंग हो जाए

तेरे सिर्फ और सिर्फ एक इशारे पर तो

मेरे सारे रकीबों से एलान-ए-जंग हो जाए ..२

Tmanna ek din thu mere sang ho jaye 

Yh dekh kr muge dekhne vale dang ho jaye 

Tere sirf or sirf ek ishare pr tho 

Mere saare rakibo se Alan a jang ho jaye 


जमाने भर से लड़कर आज पाया है तुझको

मेरे हाथ से तेरे माथे पर लाल रंग हो जाए

और खुशी के इस बेहतरीन मौके पर आनंद .२

आसमान में उसके नाम की एक पतंग हो जाए

Jmane bhar se Ladker aaj paya hai tugko 

Mere hath se tere mathe pr lal rang ho jaye 

Or khushi k es behtrin moke pr aanad 

Aasmaan mai osk naam ki ek ptang ho jaye 


दुनिया में कहां कोई काम बुरा है

मगर सबसे ज्यादा आराम बुरा है

देखा है खुद को बर्बाद होते हुए , सिर्फ बैठे रहने का अंजाम बुरा है

Duniya mai kha koi kaam bura hai 

Mgar sbse jyada aaram bura hai 

Dekha hai khud ko barbaad hothe hua , sirf bethe rahne ka anjaan bura hai 


असली मजा तो महफिल में है यारों ..२

वरना अकेले अकेले तो हर जाम बुरा है

और तुम चाहो तो पूजा रावण की करो

पर यह ना कहना कि श्रीराम बुरा है । 

Asli mja mahfil mai hai yaaro 

Vrna akele akele tho hr jaan bura hai 

Or thum chaho tho puja ravad ki kro 

Pr yh na khna ki shree ram bura hai ❤️

Post a Comment

0 Comments