Jis din Tumhari barat me nachunga main poetry by Karan Gautam | Sad love poetry in hindi

Viral Insta reels poetry-Mere mahoob ki shadi hai main nachu kyo nahi... 

Also read

Sad love poetry in Hindi

कि यह झूठ है पर हर दफा लिखूंगा मैं 

पढ़ सके यह सारा जमाना इतना सफा लिखूंगा मैं

तुम बदले थे कब से सुन रही है यह दुनिया 

इस नाम से मैं खुद को बेवफा लिखूंगा मैं

तुमने मनाया होगा मैं ही नहीं माना होगा शायद

तुमको तो आता था मुझे ही नहीं आया निभाना शायद

तुम तो चाहती थी हम जनम जनम के लिए एक हो जाएं पर मैं ही नहीं चाहता था तुमको पाना शायद 

शायद मैंने ही नहीं इंतजार किया होगा

तुमने तो किया था लेकिन मैंने ही नहीं प्यार किया होगा शायद

चल सारी गलती मेरी है कुबूल करता हूं

रोजाना तुझे याद करके वक्त फिजूल करता हूं 

अब इन आंखों को तेरा इंतजार नहीं , ऐसा नहीं कि तुझसे प्यार नहीं

Ky yh jut hai pr hr dfa likhunga mai 

Pd ske yh sara jamana itna sfa likhunga mai 

Tum bdle the kb se sun rhi hai ye duniya 

Es naam se khudko mai bewafa likhunga mai 

Tumne mnaya hoga mai he nhi mana hunga shayed 

Tumko thi aatha tha muge he nhi aaya nibhana shayed 

Thum thi chathi thi hm jnam jnam k lea ek ho jaye or mai he nhi chatha tha tumko pana shayed 

Shayed mane he nhi intezaar kiya hoga 

Tumne tho kiya tha lekin mane he nhi pyar kiya hoga shayed chale sare glthi mare hai kubul kretha hu  

Ab in aakho ko tera intezaar nhi , asa nhi k tugse pyar nhi 



फिर से तुझे पा सकूं इतनी मेरी औकात कहां

तुझ में तो है जान पर वह मुझ में बात कहां ..२

Firse tuge pa sku itni mere okayh kha 

Tug mai tho hai jaan pr vh muje mai bath kha 


खैर अपनी शादी का बुलावा देना आऊंगा जरूर

एक ही निवाला सही पर खाऊंगा जरूर

आखिर कब तक आंसुओं से पेट भरता रहूंगा

ऐसा कब तक तुझे याद करता रहूंगा

उस दिन सबके सर पर सेहरे देखुगा मैं

पूरी रात रुक कर सातों फेरे देखुगा मैं

वह सात वचन जब लोगी तुम

ईश्वर की कसम जब लोगी तुम तुम्हारी आंखों में शर्म 

देखनी है मुझे उस आग की लपटें चीक उठे 

अग्नि इतनी गरम देखनी है मुझे

Kher apni shadi ka bulava dene aaounga jrur 

Ek he nivala sahi pr khaunga jrur 

Aakhir kb thak aasuo se pet bhartha rhunga 

Asa kb thak tuge yaad kretha rhunga 

Os din sbk sr pr sehre dekhunga mai 

Pori rath ruk kr saathi fere dekhunga mai 

Vh sath vachan jb logi thum 

Iswar ki kam jb logi thum tumhari aakho mai sharm dekhni hai muge os aag ki lpte chik oye agni itni gram dekhni hai muge 


उस दिन के बाद हर रात नाचूंगा में

जिस रात तुम्हारी बारात में नाचूंगा में ..२

Os din k baad hr rath nachunga mai 

Jis rath tumhari Barth mai nachunga mai 


कोई पूछेगा रुखसती के वक्त तुम्हारी आंखों में आंसू नहीं

मैं कहूंगा मेरे महबूब की शादी है मैं नाचू क्यों नहीं ।

Koi puchega ruksath k vkh tumhari aapko mai aasu nhi 

Mai khunga mere mhbub ki sahdi hai mai nachu kyu nhi 


जिस दिन सजना सवरना अपनी शादी के लिए

कसर मत छोड़ना मेरी बर्बादी के लिए

पर मेरे दिल को रिहा कर देना अपने सीने से

बेचारा कब से तड़प रहा है आजादी के लिए

Jis din sajna swarena apni shadi k lea

Ksar math chodna mere brbaadi k lea 

Pr mere dil ko riha kr dena apne sine se

Bechara kb se trap rha hai aajadi k lea 


तुम्हारी चूड़ियां खनखन आएंगी जब मेरा नाम गुनगुन आएगी जब उसकी आवाज अपने शोहर से छुपा लेना 

वरना जिंदगी तन्हा ही बीता लेना । वरना कर सको तो कर देना शांत अपने पैरों की पायल मेरे नाम का शोर फिर कभी

 मचाए ।

 Tumhari cuuduya kuankunayegi jb mera naam gungunayegu 

 Jb oski aavag apne shoher se chupa lena 

 Vrna jindgi tnha he bitha lena , vrna kr sko tho kre dena shant apne pero ki Payal mere naam ka shor fir kabhi mchay 

 

 तुम्हारे माथे का टीका हमेशा तुम्हारी शान रहेगा

 रौनक देख चेहरे की हर शख्स हैरान रहेगा

 अपने अंदर के इंसान को भी क्या छुपा सकोगे तुम

 जो सिर्फ मुझे देखने के लिए परेशान रहेगा

 कि माना शुरुआती दौर तुम्हें अच्छा लगेगा

 नए रिश्ते बनेंगे हर शख्स अच्छा लगेगा

 मेरा प्यार अपने दिल से मिटा दोगे तुम ,सब कुछ अपने शोहर पर लुटा दोगी तुम

 Tumhare mathe ka tika hmesha tumhari shaan rhega 

 Ronak dekh chehre ki hr shakhs heran hoga 

 Apne ander kninsaan ko bhi kya chupa skoge thum 

 Jo sirf muge dekhne k lea presaan rhega 

 Ki maana shruaathi dor tumhe aacha lgega 

 Nye rishtey bnenge hr shaks aacha lgega 

 Mera pyar apne dil se mita doge thum , sb apne shor pr luta dogi thum 

 

 पर एक रात मेरा नाम तुम्हारी जुबां पर आएगा

 तुम देखना मेरी जान सब कुछ बता दोगी तुम ..२ 

 यह देखना यह सब भी बता दोगे तुम बता दोगी कि तुम्हें शादी से तुम्हें कोई एतराज नहीं था तुम्हारी ही गलती थी मैं दगाबाज नहीं था

Pr ek raath mera naame tumhari zuba pr aayega 

Tum dekhna mere jaan sb kuch batha dogi thum 

Yh dekhna yhbsb bhi batha doge ki thum shadi se koi atraaz nhi tha tumhari he glthi thi mai dgaabaz nhi tha 


इस नब्ज को सुनकर इरादा बदले तुम्हारा

खुद से किया हर वादा बदले तुम्हारा

तो पीछे के दरवाजे पर करूंगा इंतजार में तुम्हारा

तुम बस समझ जाना आंखों से इशारा करूंगा ..२

और इतने पर भी तुम्हें मुझ पर एतबार नहीं

बस एक बार कह दो कि तुम्हें मुझसे प्यार नहीं

तुम्हें पलटकर कभी सत आऊंगा नहीं

तुम्हें मांगा था उस खुदा की दहलीज पर कभी जाऊंगा नहीं

मुझे सुनने वाले मुकर्रर मुखरर कहे बेशक

तुम्हारी कसम इस नब्ज को दोबारा सुनूंगा नहीं

Es nbz ko sunker irada bdle tumhara 

Khud se kiya hr vaada bdle tumhara 

Tho piche k darvaaze pr krunga intezaar tumhara 

Thum bs smj jana aakhi se ishara krunga 

Or itne or bhi thumhe muge pr atbaar nhi 

Bs ek baar kh do ki thumhe mugse pyar nhi 

Thumhe platker kabhi staounga nhi 

Thumhe maanga tha os khuda ki dhaliz pr kabhi jaounga nhi 

Muge sunne vale mukerr mukharr khe beshaq 

Thumhari kam es nbj ko dubara sunuga nhi

Post a Comment

0 Comments