Kumar Vishwas Ki Best Poetry Hindi Me Pdhe | Poetry by -Kumar Vishwas Best in the World

Aap sab ne hmari purani posts pe itna pyar diya ke hm log fir aapke lie Kumar Vishwas ki or poetry leke aaye hai. Inhe aram se padhiye Or enjoy kariye. 

Pasand aane pe instagram facebook ya whatsApp pe share jaroor kare and comment bhi krte rhe.

Download free Kumar Vishwas Poetry in Hindi

Download kumar vishwas Poetry


मेरे जीने मरने में तुम्हारा नाम आएगा,

 मैं सांसे रोक लूं फिर भी यही इल्जाम आएगा

 हर एक धड़कन में तुम हो तो फिर अपराध क्या मेरा

अगर राधा पुकारेगी तो घनश्याम आएंगे।


Mere jine marne me tumhara nam aayega,

main sanse rok lu fir bhi yahi iljjam aayega

hr ek dhadkan me tum ho to fir apradh kya mera

agar radha pukaregi to ghnshyam aayange.


मेरा जो भी तजुर्बा है मैं तुम्हें बता रहा हूं

कोई लब छू गया था तब की अब गा रहा हूं मैं 

बिछड़ के तुमसे, अब कैसे जिया जाए 

बिना तड़पे जो मैं खुद ही नहीं समझा, वही समझा रहा हूं मैं


Mera jo bhi tajurba hai main tumhe bta rha hun

koi lab chu gya tha tb ki ab ga rha hu main

bichad ke tumse, ab kaese jiya jaye

bina tadpe jo main khud hi nahi smjha, vahi smjha rha hun main.


कोई पत्थर की मूरत है किसी पत्थर में मूरत है

लो हमने देख ली दुनिया, जो इतनी खूबसूरत है

जमाना अपनी समझे पर मुझे अपनी खबर है

तुझे मेरी जरूरत है और मुझे तेरी जरूरत है।


Koi patthar ki murat hai kisi patthar me murat hai

lo hamne dekh li duniya, jo itni khubsurat hai

jamana apni samjhe pr mujhe apni khabar hai

tujhe meri jarurat hai or mujhe teri jarurat hai.


तुम ही पर मरता है यह दिल, अदावत क्यों नहीं करता

कई जन्मों से बंदी है, बगावत क्यों नहीं करता

Tum hi pr marta hai yah dil, Aadwat kyo nahi karta

kai janmo se bandhi hai, bagawat q nahi karta.


वह जिसका तीर चुपके से जिगर के पार होता है

वह कोई गैर क्या अपना ही रिश्तेदार होता है

किसी से अपने दिल की बात कहना ना भूल से

यहां खत भी थोड़ी देर में अखबार होता है

Vah jiska tir chupke se jigar ke par hota hai

vah koi gor kya apna hi rishtedar hota hai

kisi se apne dil ki bat kahna na bhul se

yahan khat bhi thodi der me akhbar hota hai


तुम्हारे पास हू लेकिन जो दूरी है वह समझता हूं

तुमसे मेरी हस्ती अधूरी है समझता हूं

तुम्हें मैं भूल जाऊंगा यह मुमकिन है नहीं लेकिन

तुमही को भूलना जरूरी है समझता हूं।

Tumhare pas hu lekin jo duri hai vah smajhta hun

tumse meri hasti adhuri hai smjhta hu

tumhen main bhul jaounga yah mumkin hai nahi lekin

tumhi ko bhulna jaruri hai smajhta hu.


वक्त के क्रूर छल का भरोसा नहीं

आज जी लो कल का भरोसा नहीं

दे रहे हैं वह अगले जन्म की खबर

जिनको अगले ही पल का भरोसा नहीं।

Waqt ke krur chal ka bharosa nahi

aaj ji lo kal ka bharosa nahi

de rhe hain vah agle janm ki khabar

jinko alge hi pal ka bharosa nahi.


एक अधूरी जवानी का क्या फायदा,

एक कथा नायक बिन कहानी का क्या फायदा,

जिसमें धुलकर नजर भी ना पावन बने,

आंख में से‌ ऐसे पानी का क्या फायदा।

Ek adhuri javani ka kya fyda,

ek katha nayak bin kahani ka kya fyda,

jismen dhulkar nahar bhi na pavan bne,

aankh me se aese pani ka kya fyda.


तुम अमर राग माला बनो तो सही 

एक पावन शिवाला बनो तो सही,

लोग पढ़ लेंगे सबक तुमसे प्यार का

प्रीत की पाठशाला बनो तो सही,

Tum amar rag mala bno to sahi

ek pavan shivala bano to sahi,

log pdh lange sabak tunse pyar ka 

prit ki pathshala bano to sahi,


जब भी मुंह ढक लेता हूं

तेरी जुल्फों की छांव में

अनेक गीत उतर आते हैं मेरा मन की छांव में। 

Jab bhi muh dhak leta hun

teri julfo ki chao me

anek git utar aate hain mera man ki chao main.


तुम्हारी और मेरी रात में बस इतना फर्क है

तुम्हारी सो के गुजरी और मेरी रो के गुजरी।

Tumhari or meri rat me bas itna fark hai

tumhari so ke gujri or meri ro ke gujri.


एक दिन वही हुआ जो पहले होता आया है

हंसने वाला हंसने बैठा रोया जो रोते आया हैं।


Ek din vahi hua Jo pahle hota aaya hai

Hansne bala hnsne batha Roya Jo rote aaya hai. 


दूर तू है मगर मैं तेरे पास हूं

दिल है तू तो दिल का में एहसास हूं

प्रार्थना इबादत या कोई पूजा है अगर तू तो मैं विश्वास हूं ।


Dur Tu hai magar main tere pas hun

Dil hai tu to dil ka main ahsas hu

Prarthna ibadat ya koi puja hai agar Tu to main vishvas hu. 


Agar aapko Kumar Vishwas ki yah Post pasand aai to is dusri post ko bhi jaroor check karen.

Post a Comment

0 Comments