Uske Hisab se bas Dosti thi Poetry | Kanha kamboj best Poetry in hindi

Uske Hisab se bas Dosti thi Poetry | Love Poetry in Hindi

Uske hisab se bas dosti thi poetry in hindi


Apke or aapke pyar karne valo ke lie hm or bahtaren poetry leke aaye hai jo ki Unkahe jasbaat ki ek poetry hai or ise likha or pdha hai Kanha kamboj dvara. aap ise video me bhi dekh sakte hai. yah video ke chote chote clips online kai sites pe share liye ja rhe hai jasa Instagram reels to vahi se yah video hmare kai readers se hame send karte hue kha ke ve iske lyrics pdhna chahte hai is lie hamne yah post likhi.

Kanha kamboj best Poetry in hindi


Baagavaan ki gulab se dosti thi matlab kisi nayab se dosti thi
Baagavaan ki gulab se dosti thi matlab kisi nayab se dosti thi
sab ke hisaab se hamme pyaar tha, sab ke hisaab se hamme pyaar tha,
bas usake hisaab se dosti thi!

Baagavaan ki gulab se dosti thi matlab kisi nayab se dosti thi
sab ke hisaab se hamme pyaar tha, bas usake hisaab se dosti thi!


main duniyaadaari ki baaten karta
main duniyaadaari ki baaten karta
usaki bas kitaab se dosti thi...
maana ki ham adab se baat nahi karte par maan lo yah ki ham matalab se baat nahi karte
maana ki ham adab se baat nahin karate par maan lo yah ki ham matalab se baat nahi karte
yah naram lahaja or pyari baate tere lie hai ham is lahaje mein sab se baat nahi karte,

kisi ne ek savaal poochh kar rula diya
tum donon yaar kab se baat nahi karte,
tum donon yaar kab se baat nahi karte,
khaamoshi ne jab ham donon par kaabu pa liya.. pyaar to karate rahe pr tabase baat nahi karte 
or tu bhi tang aa gaya hai aur main bhi khush nahin hoon
or tu bhi tang aa gaya hai aur main bhi khush nahin hoon 
chal yaar aisa karate hain ab se baat nahin karte...

jab se teri sohabat mein rah raha hai bura lag raha hai
jab se teri sohabat mein rah raha hai bura lag raha hai
ab thak kar tujhase yah kah raha hai bura lag raha hai
ab thak kar tujhase yah kah raha hai bura lag raha hai
jinke ishaaro se mausam ke rukh badalate the..
jinke ishaaro se mausam ke rukh badalate the..
unhi aankhon se dariya bah raha hai bura lag raha hai...

yakeen maan vah teri sab baato par
acha beshak kah raha hai par bura lag raha hai
bichhadane ke alaava koi raasta baaki nahi, baat samajh tu lad bevaja raha hai bura lag raha hai meri jaan
ab tujhase nafarat hi karunga main
ab tujhse nafarat hi karoonga main baat yah kaanha kah raha hai


ham tere saath jaroor khulenge sabr kar, ek roj tujhe akele milange sabr kar
ham tere saath jaroor khulenge sabr kar, ek roj tujhe akele milange sabr kar
ijahaar-e-ishk mein vakt lagta hai..
ijahaar-e-ishk mein vakt lagta hai...
philhaal to bas itna kahange sabr kar.


बागवान की गुलाब से दोस्ती थी मतलब किसी नायाब से दोस्ती थी..

बागवान की गुलाब से दोस्ती थी मतलब किसी नायाब से दोस्ती थी..

सब के हिसाब से हम्मे प्यार था, सब के हिसाब से हम्मे प्यार था,

बस उसके हिसाब से दोस्ती थी!


बागवान की गुलाब से दोस्ती थी मतलब किसी नायाब से दोस्ती थी..

सब के हिसाब से हम्मे प्यार था, बस उसके हिसाब से दोस्ती थी!


मैं दुनियादारी की बातें करता

मैं दुनियादारी की बातें करता

उसकी बस किताब से दोस्ती थी...

उसकी बस किताब से दोस्ती थी...

माना कि हम अदब से बात नहीं करते पर मान लो यह की हम मतलब से बात नहीं करते

माना कि हम अदब से बात नहीं करते पर मान लो यह की हम मतलब से बात नहीं करते

यह नरम लहजा, प्यारी बातें तेरे लिए है हम इस लहजे में सब से बात नहीं करते,

हम इस लहजे में सब से बात नहीं करते,...


किसी ने एक सवाल पूछ कर रुला दिया

किसी ने एक सवाल पूछ कर रुला दिया

तुम दोनों यार कब से बात नहीं करते,

तुम दोनों यार कब से बात नहीं करते,

 खामोशी ने जब हम दोनों पर काबू पा लिया.. पर प्यार तो करते रहे pr तबसे बात नहीं करते 

और तू भी तंग आ गया है और मैं भी खुश नहीं हूं

और तू भी तंग आ गया है और मैं भी खुश नहीं हूं

चल यार ऐसा करते हैं अब से बात नहीं करते... 


जब से तेरी सोहबत में रह रहा है बुरा लग रहा है

जब से तेरी सोहबत में रह रहा है बुरा लग रहा है

अब थक कर तुझसे यह कह रहा है बुरा लग रहा है

अब थक कर तुझसे यह कह रहा है बुरा लग रहा है

जिनके इशारों से मौसम के रुख बदलते थे..

जिनके इशारों से मौसम के रुख बदलते थे..

उन्हीं आंखों से दरिया बह रहा है बुरा लग रहा है...


यकीन मान वह तेरी सब बातों पर

अच्छा बेशक कह रहा है पर बुरा लग रहा है

बिछड़ने के अलावा कोई रास्ता बाकी नहीं, बात समझ तु लड़ बेवजह रहा है बुरा लग रहा है मेरी जान

अब तुझसे नफरत ही करूंगा मैं

अब तुझसे नफरत ही करूंगा मैं बात यह कान्हा कह रहा है


हम तेरे साथ जरूर खुलेंगे सब्र कर, एक रोज तुझे अकेले मिलेंगे सब्र कर

हम तेरे साथ जरूर खुलेंगे सब्र कर, एक रोज तुझे अकेले मिलेंगे सब्र कर

इजहार ए इश्क में वक्त लगता है..

इजहार ए इश्क में वक्त लगता है...

फिलहाल तो बस इतना कहेंगे सब्र कर।

Pasand aane pe share and comment jaroor kare ..

Post a Comment

0 Comments