Kyou vo mera na hua hindi poetry by- Gunjan Saini

Kyou vo mera na hua hindi poetry by- Gunjan Saini

This is a special poetry to my heart ❤. 

Hello dosto aaj fir hm aapke lie ek new poetry leke aaye hai yah poetry Gunjan saini ki likhi hui poetry hai... Aap ise prhne ke sath sath seedha unhi ki aavaj me sun bhi sakte hai niche diye gaye video se. 
Kyou vo mera na hua poetry by Gunjan Saini


कविताएं वह खत है जिन्हें उनका हकदार कभी पढ़ नहीं पाता,

जो पढ़ ले गए तो समझ नहीं पाता,

आंखों से बहते हैं जो अश्व अल्फ़ाज़ बन जाते हैं जाने कितने आशिकों के इश्क किताब बन जाते हैं नसों में बहता है उसे खो देने का मलाल करता सवाल है, ऐ दिल क्यों वह मेरा हुआ नहीं? क्यों इतना याद करने पर भी वह लौटा नहीं क्या रास्ता मुश्किल था या इश्क ने उसे छुआ ही नहीं,

यह सवाल मेरा दिल कभी सुलझा नहीं पाता, उसके आने की उम्मीद कागज पर उतार नहीं पाता, मगर फिर भी कविताएं वह खत है जिन्हें उनका हकदार कभी पढ़ नहीं पाता।


उसके जाने की दस्तक और लौटने की दुआ से तो यह वाकिफ है मगर तब भी इस दिल को सुकून मिल नहीं पाता, कुछ पल का जुनून शायद मंदा कर दे इसे मगर बुझा सके वह शब्द इसे याद नहीं आता

वह दिल जिसने कदम उठाया था इस उम्मीद में

वह दिल जिसने कदम उठाया था इस उम्मीद में

कागज पर भी खुलकर रो नहीं पाता 

सुबह की ना उम्मीद  में सूरज की किरणों को ढूंढ नहीं पाता

पता  इसे याद नहीं अपना शायद मगर उसकी दूरी आंखों में रखें, ख्वाब के बादल यह चाह कर भी भूल नहीं पाता 


कितना चाहता है लौटना उन्हीं गलियों में वापिस  मगर उसका यूं छोड़ कर जाना उन्हीं यादों को मिटा नहीं पाता

कितना चाहता है लौटना उन्हीं गलियों में वापिस  मगर उसका यूं छोड़ कर जाना उन्हीं यादों को मिटा नहीं पाता

अपनी तन्हा रातों में उसका यू करीब होने  की ख्वाहिश को जगाए नहीं पाता क्योंकि वह तो चला गया है मुंह मोड़ के मगर इसे खुद अपना दिल तोड़ना आज तक नहीं आता 

बस इसलिए कविताएं वह खत हैं जिसे उसका हकदार कभी पढ़ नहीं पाता

जो भूले बिसरे पढ़ ले कर तो उन्हें समझ नहीं पाता 

जो भूले बिसरे पढ़ ले कर तो उन्हें समझ नहीं पाता

कविताएं वह खत है जिन्हें उनका हकदार कभी पढ़ नहीं पाता!


Kavitaeyen vo khat hai jinhe unka hakdaar kabhi pdh nahi paata,

jo padh liye gae to samajh nahi pata aankho se bahate hain jo ashv alfaaz ban jaate hain jaane kitane aashiko ke ishk kitaab ban jaate hain naso mein bahata hai use kho dene ka malaal, karata savaal hai yah dil kyon vah mera hua nahi? 

kyo itana yaad karane par bhi vah lauta nahi kya raasta mushkil tha ya ishq ne use chua hi nahi, yah savaal mera dil kabhi sulajha nahi pata usake aane ki ummeed kaagaj par utaar nahi pata magar phir bhi kavitayen vah khat hai

jinhen unaka hakadaar kabhi padh nahi pata. 


uske jaane ki dastak aur lautane ki dua se to yah vaakiph hai magar tab bhi is dil ko yah sukoon mil nahi pata, kuch pal ka junoon shaayad manda kar de ise magar bujha de vah shabd ise yad nahi aata. 


vah dil jisne kadam uthaaya tha is ummeed mein

vah dil jisane kadam uthaaya tha is ummeed mein

kaagaj par bhi khulkar ro nahi pata 

subah ki na ummeed  mein sooraj ki kirano ko dhoondh nahi pata

pata  ise yaad nahi apana shaayad magar usaki doori aankhon mein rakhe, khvaab ke baadal yah chaah kar bhi bol nahi paata. 


kitana chaahata hai unhi galiyo me lautana vaapis  magar uska yoon chhod kar jaana un yaadon ko mita nahi paata

magar uska yoon chhod kar jaana un yaadon ko mita nahi paata


apani tanha raato mein uska yoo kareeb hone  ki khvaahish ko jaga nahi pata kyonki vah to chala gaya hai mu mod ke,

magar ise khud apana dil todana aaj tak nahi aata, 

bas isalie kavitae vah khat hain jise uska hakdar kabhi padh nahi pata

jo bhoole bisre padh liye gye to unhe samajh nahi paata, 

jo bhoole bisre padh liye gye to unhe samajh nahi paata, 

Kavitaeyen vo khat hai jinhe unka hakdaar kabhi pdh nahi paata. 



Agar aapko yah poetry pasand aai hai to comment jaroor kare taki hm aapke lie or bhi bdhiya poetry late rhe or aap or hm sab sath me ise enjoy kr sake. 




Post a Comment

0 Comments