Kahin pe Ro Liye Tum Bin Poetry by -Kumar Vishwas with video poetry

Kahin pe Ro Liye Tum Bin Poetry by -Kumar Vishwas

Kumar vishwas ko aaj ke time pe kon nahi janta hoga ve aaj ke samay kafi jane mane kavi hai or aapke lie hum unki sabse mashoor kavtao me se ek laye hai "Kahin pe Ro Liye Tum Bin" umeed hai yah aapko pasand jaroor aayegi or aap ise apne dosto ke sath bhi share karange. Is post me aap is kavita ko pdhne ke sath sath ise kumar vishwas ki aavaj me sun bhi sakte hai.

Kumar Vishwas with video kavita

Kumar Vishwas with video poetry


Kahin pe Ro Liye Tum Bin in hindi kavita


Ke kahin pr jag liye tum bin, kahin pr so liye tum bin,

ke main apne git gajlo se, use pagam karta hun...

ke main apne geet gajlo se, use pegam karta hu...


Usi ki di hui dolat usi ke nam karta hun

Usi ki di hui dolat usi ke nam karta hun


Hava ja kam hai chalna, diye ka kam hai jalna

vo apna kam karti hai main apna kam karta hun


Ke kisi ke dil ki mayusi, jahan se ho ke gujri hai

Hmari sari chalaki vahan pr kho ke gujri hai,. 

Tumhari or meri rat me bs fark itna hai,... 

Tumhari or meri rat me bs fark itna hai,...

Tumhari so ke gujri hai hmari ro ke gujri hai,... 


Ke nazar aksar sikayat aaj kl karti hai darpan se

Ke nazar aksar sikayat aaj kl karti hai darpan se

Thakan bhi chutkiyan lene lagi hai tan se or man se, 

Thakan bhi chutkiyan lene lagi hai tan se or man se, 


Kahan tk hal samhale umr ka hr roj girta ghar,

Kahan tk hal samhale umr ka hr roj girta ghar,... 

Tum apni yad ka malba batao dil ke aangan se... 

Tum apni yad ka malba batao dil ke aangan se

ke kahin pr jag liye tum bin

ke kahin pr so liye tum bin

bhari mahfil me bhi aksar akele ho liye tum bin,,,

ye pichle  chand barso ki kamai sath hai mere,

ye pichle  chand barso ki kamai sath hai mere,

kabhi to hus liye tum bin kahin fir ro liye tum bin.


Ke jahan hr din sisakna hai jahan hr roj gana hai,

Ke jahan hr din sisakna hai jahan hr roj gana hai,

hmari jindagi bhi ek tavayaf ka gharana hai,

hmari jindagi bhi ek tavayaf ka gharana hai,

bahut majboor hokar git roti ke likhe mane..

bahut majboor hokar git roti ke likhe mane..

tumhari yad ka kya hai use to roj aana hai...


Ke koi diWana kahta hai koi pagal samajhta hai

magar dharti ki bechani ko bas badal samajhta hai

main tujhse dur keasa hu, tu mujhse dur keasi hai

ye tera dil samajhta hai ya mera dil samajhta hai...



के कहीं पर जग लिए तुम बिन, कहीं पर सो लिए तुम बिन,

के मैं अपने गीत गजलों से, उसे पैगाम करता हूं...

के मैं अपने गीत गजलों से, उसे पैगाम करता हूं...


उसी की दी हुई दौलत उसी के नाम करता हूं 

उसी की दी हुई दौलत, उसी के नाम करता हूं


हवा का काम है चलना, दिऐ का काम है जलना 

वो अपना काम करती है मैं अपना काम करता हूं

के किसी के दिल की मायूसी, जहां से हो के गुजरी है

हमारी सारी चालाकी वहीं पर खो के गुजरी है,. 

तुम्हारी और मेरी रात में बस फर्क इतना है...

तुम्हारी और मेरी रात में बस फर्क इतना है,...

तुम्हारी सो के गुजरी है और हमारी रो के गुजरी है,...


के नजर अक्सर शिकायत आज कल करती है दर्पण से

के नजर अक्सर शिकायत आज कल करती है दर्पण से 

थकन भी चुटकियां लेने लगी है तन से और मन से,

थकन भी चुटकियां लेने लगी है तन से और मन से,


कहां तक हम संभाले उम्र का हर रोज गिरता घर,

कहां तक हम संभाले उम्र का हर रोज गिरता घर,..

तुम अपनी याद का मलबा हटाओ दिल के आंगन से...

तुम अपनी याद का मलबा हटाओ दिल के आंगन से

के कहीं पर जग लिए तुम बिन 

के कहीं पर सो लिए तुम बिन

भरी महफिल में भी अक्सर अकेले हो लिए तुम बिन,,,

ये पिछले चंद बरसों की कमाई साथ है मेरे,

ये पिछले चंद बरसों की कमाई साथ है मेरे,

कभी तो हस लिए तुम बिन कभी फिर रो लिए तुम बिन।


के जहां हर दिन सिसकना है जहां हर रात गाना है,

के जहां हर दिन सिसकना है जहां हर रात गाना है,

हमारी जिंदगी भी एक तवायफ का घराना है,

हमारी जिंदगी भी एक तवायफ का घराना है,

बहुत मजबूर होकर गीत रोटी के लिखें मैंने..

बहुत मजबूर होकर गीत रोटी के लिखें मैंने..

तुम्हारी याद का क्या है इसे तो रोज आना है...


के कोई दीवाना कहता है कोई पागल समझता है

मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है

मैं तुझसे दूर कैसा हूं, तू मुझसे दूर कैसी है

ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है...।


Pasand aane pe comment and share jaroor kare or iske alava hmari baki kavitao (Atal bihari vajpayee kavita) ya poetry ko bhi jaroor pdhe.

Post a Comment

0 Comments