Poetry - Kuch Sawaalo Ke Jawaab Nahi Milte


Ghoom ho jaate hain hum vajud ke saaye mein,

Jazbaato se khela kyu is kadar,

Is baat ke suraag nahi milte,


गुम हो जाते हैं हम वजूद के साये में,

जज़्बातों से खेला क्यों इस कदर,

इस बात के सुराग नही मिलते,


Kuraid rahi hun main aaj phir waqt ki rait ko,

Na jaane kyu is-mein bikre, 

Tere mere halaat nahi milte 

Kuch sawaalo  ke jawaab nahi milte. 


कुरेद रही हूं मैं आज फिर वक़्त की रेत को,

न जाने क्यों इसमें बिखरे,

तेरे मेरे हालात नही मिलते

कुछ सवालो के जवाब नही मिलते।


Samait kar ruh ko phir jiina siikh liya hai,

Yu mehsus teri kami nahi, kisse or bhi judd gaye hain mujhse, 


समेट कर रह को फिर जीना सीख लिया है,

यू महसूस तेरी कमी नही, किस्से और भी जुड़

 गए हैं मुझसे,


Jo khoya uske baad safar ki thaani hi nahi,

Main sitaaron mein dhundhti thi jo raoshni,

Aaj aankho mein samaa-kar bhi uske chiraag nahi milte,

Kuch sawaalo ke jwaab nahi milte. 


जो खोया उसके बाद सफर की ठानी ही नही,

में सितारों में ढूंढती थी जो रौशनी,

आज आंखों में  समाकर भी उसके चिराग

नही मिलते,

कुछ सवालों के जवाब नही मिलते।


Swaal ye bhi hai kis hadd tak tu be-parwaah hai, 

Swaal ye bhi hai mujhse khaas naarazgi thi ya dil bas ye mera heraan hai,

Khair, meri zubaan par bhi ab tere name ke alfaaz nahi milte,

Badal gayi hun main bhi ab,

Afso-os bas ye ki tujhe khabar tak nahi,  

Mere khyaalo mein bhi tere aihsaas nahi milte,

Kuch sawaalo ke jawaab nahi milte. 


सवाल ये भी है किस हद तक तू बेपरवाह है,

सवाल ये भी है मुझसे खास नाराज़गी थी या दिल बस ये मेरा हैरान है,

खैर, मेरी ज़ुबान पर भी अब तेरे नाम के अल्फ़ाज़ नही मिलते,

बदल गयी हूं मैं भी अब,

अफसोस बस ये की तुझे खबर तक नहीँ,

मेरे खयालो में भी तेरे एहसास नही मिलते,

कुछ सवालों के जवाब नही मिलते।


Mood kar halaat jaan to letaa !

Itna to ajnabi bhi gair nahi hote,

Dafnaa kar har fiikr,

Kya tujhe sach mein vaasta nahi tha koyi? 

Agar haan!...to phir mujhe ye tam-maam sawaal kyu milte,

Main bikhar rahi thi yeh soch kar thoda to taras khaaya hota,

Itne majbur bhi nahi the tum ki,

Mere tabaahi ke nishaan nahi milte,

Kuch sawaalo ke jawaab nahi milte. 


मुड़कर हालात जान तो लेता!

इतना तो अजनबी भी गैर नही होते,

दफना कर हर  फिक्र,

क्या तुझे सच में वास्ता नही था कोई

अगर हाँ,  तो फिर मुझे ये तम्माम सवाल क्यों  मिलते,

मैं बिखर रही थी यह सोच कर थोड़ा तो तरस खाया होता,

इतने मजबूर भी नहीं थे तुम की,

मेरे तबाही के निशान नहीं मिलते,

कुछ सवालो के जवाब नहीं मिलते 


Mujhe tu ab nahi chaahiye,

Ek baar azaad kiya-to-kiya !

Bas kuch parchhayi-yaa hai jo puchh rahi,

Kaise kisi ko khud ke be-rang byaan nahi milte,

Jo baih rahi hai hawaa use bhi pata hai apna pata,

Fir kaise kuch logon ko,

Sab jaante hue bhi unke anjaam nahi milte,

Kyu kuch sawaalo ke jawaab nahi milte. 


मुझे तू अब नहीं चाहिए,

एक बार आज़ाद किया तो किया !

बस कुछ पर्चियां है जो पूछ रही,

कैसे किसी को खुद के बेरंग बयान नहीं मिलते,

जो बाह रही है हवा उसे भी पता है अपना पता,

फिर कैसे कुछ लोगों को

सब जानते हुए भी उनके अंजाम नहीं मिलते,

क्यों कुछ सवालो के जवाब नहीं मिलते।


Ek baat kahun! 

Ab fir mat dohraana yeh kisi gair ke saath,

Kabhi apna banaake chhod do,

Tum thakte nahi ye khel khelakar,

Or kuch logon ko aise swaal milte hai 

Jinke zindagi bhar unke koi jwaab nahi milte,

Kah rahi hun bahut kuch khafaa to tu hoga mujhse,

Bas itna jaan le hazaaro dafaa maine inko kaid kiya hai,

Har kyu ko teri khushi mein samait diya hai,

Tu samjhe nahi inko itna nadaan to nahi,

Phir kya mila yun haraa kar mujhko mujse hi,

Kaise karte ho saamna khudka,

Kya aayine mein tumko wo sawaal nahi milte,

Jinke aaj bhi mujhe koi jawaab nahi milte,

Jinke aaj bhi mujhe koi jwaab nahi milte.


एक बात कहूं !

अब फर मत दोहराना यह किसी गैर के साथ,

कभी अपना बनाके छोड़ दो,

तुम थके नहीं ये खेल खेलकर,

और कुछ लोगों को ऐसे सवाल मिलते है 

जिनके ज़िंदगी भर उनके कोई जवाब नहीं मिलते,

कह  रही हु बहुत-कुछ खफा तो तू होगा मुझसे,

बस इतना जान ले हज़ारो दफा मैंने इनको कैद किया है,

हर क्यो को तेरी ख़ुशी मैं समिट दिया है,

तू समझे नहीं इनको इतना नादान तो नहीं,

फिरक्या मिला यूँ हरा कर मुझको मुझसे ही,

कैसे करते हो सामना खुदका,

क्या आईने में तुमको वो सवाल नहीं मिलते,

जिनके आज भी मुझे कोई जवाब नहीं मिलते,

जिनके आज भी मुझे कोई जवाब नहीं मिलते,

Also read 


x

Post a Comment

0 Comments