Zakir khan Quotes and Shayari | Zakir khan Shayari and Zakir khan Quotes | Huck se Single Quotes |

Zakir khan Quotes and Shayari

Zakhir khan quotes

Teri bewafai ke angaro me lipti rahi hai rooh meri
Teri bewafai ke angaro me lipti rahi hai rooh meri
main is trah aag na hota jo hojari tu meri

तेरी बेवफाई के अंगारो में लिपटी रही है रूह मेरी
तेरी बेवफाई के अंगारो में लिपटी रही है रूह मेरी
मैं तरह आग न होते जो होजाती तू मेरी

Aapne aap se bhi piche khada hun main
Aapne aap se bhi piche khada hun main
zindgi kitna dhire chala hu  main
Aapne aap se bhi piche khada hun main
zindgi kitna dhire chala hu  main
mujhe jagane jo or bhi haseen hoke aate the
un khvabo ko sach smjh kr soya raha hu main
zindgi kitna dheere chala hu main

अपने आप से भी पीछे खड़ा हूँ मैं 

अपने आप से भी पीछे खड़ा हूँ मैं 
ज़िंदगी कितना धीरे चला हूँ मैं
अपने आप से भी पीछे खड़ा हूँ मैं 
ज़िंदगी कितना धीरे चला हूँ मैं
मुझे जगाने जो और भी हसीन होक आते थे
उन ख्वाबो को सच समझ क्र सोया रहा हु मैं 
ज़िंदगी कितना धीरे चला हु मैं 

Bus ka intezar karte hue,
metro me khare khare,
Riksha me baithe hue,
gahre shunya me kya dekhte rahte ho
gum sa chahra liye kya sochte rahte ho
"kya khoya kya paya" ka hissab nahi laga paye na is barr bhi
ghr nahi ja paye na isbar bhi
ke ab vo aag nahi rahi, na sholo sa dahakta hun
rang bhi sabke jesa hai sab sa hi to mahekta hun,
ke ab vo aag nahi rahi, na sholo sa dahakta hun
rang bhi sabke jesa hai sab sa hi to mahekta hun
ek arse se hun thame kashti ko bhawar me,
ek arse se hun thame kashti ko bhawar me
tufan se bhi zyada sahil se siharta hun

बस का इंतज़ार करते हुए,
मेट्रो में खड़े खड़े,

रिक्शा में बैठे हुए,
गहरे शून्य में क्या देखते रहते हो
गुम सा चेहरा लिए किया सोचते रहते हो 
"क्या खोया क्या पाया" का हिसाब नहीं लगा पाए 

न इस बार भी
घर नहीं जा पाए न इस बार भी 
के अब वो आग नहीं रही, न शोलो सा दहकता हूँ 
रगं भी सबके जैसा है सब सा ही तो महेकता हूँ,
के अब वो आग नहीं रही, न शोलो सा दहकता हूँ 


रगं भी सबके जैसा है सब सा ही तो महेकता हूँ,
एक आरसे से हूँ थामे कश्ती को भवर में,
एक आरसे से हूँ थामे कश्ती को भवर में,

तूफान से भी ज़्यादा साहिल से सिहरता हूँ 

din raat bhi mahnat karne ke bad bhi gala ghot ghot ke jeena
khane ka wakth tay nahi or kam bahut jada
ijjat kam or passey usse bhi kam
maa bap ka sath nahi kisi ke kahe pe bharosa ho jaye aysi kisi me bat nahi
aye bade shahar tera bahut karza hai mujhpr
sab chukaounga bari bari se

दिन रात भी मेहनत करने के बाद भी गाला 
घोट घोट के जीना 
खाने का वक्त तय नहीं किसी के कहे पे भरोसा 
हो जाये एसी किसी में बात नहीं 
ए बड़े शहर तेरा बहुत क़र्ज़ है मुझपर सब चुकाऊंगा बरी बरी से 
Zakhir khan
Bhook dekhi hai
dekhi hai tiraskar kerti aakhe
kadmo se chal chal kr rasto ko nam badalte dekha hai
apne tute hue swabhiman ke sath khud ko kam badalte dekha hai
dekhi hai na ummidi apman dekha hai
na chahte hue bhi maa baap ka jhukta atm-samman dekha hai
sapno ko tutte dekha hai apno ko chut-te dekha hai
halat ki banzar zameen phad kr nikla hu
be-fiqur rahiye main sohrat ki dhup me nahi jalunga
aap bss sath bnae rakhiye ga abhi to main lamba chalunga
भूख देखी है
देखी है तिरस्कार करती आखें 

कदमो से चल चल क्र रास्तो को नाम बदलते देखा है
अपने टूटे गए स्वाभिमान के साथ खुद को काम 
बदलते देखा है 
देखी है न उम्मीदी अपमान देखा है 
न चाहते हुए भी माँ बाप का झुकता आत्मसम्मान देखा है 

सपनो को टूटते देखा है अपनों को छुट्टे देखा है 
हालात की बंज़र ज़मीन फाड़ कर निकला हु 
बेफिक्र रहिये मैं शोहरत की धुप में नहीं जलूँगा 
आप बस साथ बनाए रखिये गा अभी तो मैं लम्बा चलूँगा 

Mere 2-4 khwab hai jinhe main aasma se door chahta hun
Zindgi chahe gumnam rahe per moat me mashoor chahta han
mera sab bura bhi kahna pr sab accha bhi btana
main jb jaou is duniya se to meri dastan sunana
ye bhi btana ke kase samandar jitne se pahle me hazaro bar choti choti nadiyon se hara tha
vo ghar vo zameen dikhana koi magaroor jo kahe to shuruwat meri btana
batana safar ki dushwariya meri
taki koi jo mere jaisi zameen se aaye uske liye nadiyo ki dhar hamesha choti hi rahe
or samundar jitne ka khwab us ki aankho se kabhi jaye na
pr unse meri galtiya bhi mt chupana
koi puche to bta dena ki kis-darje ka nakara tha
kah dena ki jhuta tha vo btana jarurat pe kam na aasaka
wade kiye pr nibha na saka inteqam sare pure kiye
pr ishq adhura hi rahne diya
bta dena sabko ki vo matlabi bda tha hr bade maqam pe tanha hi khada tha

मेरे 2-4 ख्वाब है जिन्हे मैं आसमा से दूर चाहता हूँ
ज़िंदगी चाहे गुमनाम रहे पर मौत में मशहूर चाहता हूँ
मेरा सब बुरा भी कहना पर सब अच्छा भी बताना 

मैं जब जाऊ इस दुनिया से तो मेरी दास्ताँ सुनना 
ये भी बताना के कैसे समंदर जितने से पहले 
में हज़ारो बार छोटी छोटी नदियों से हरा था 
वो घर वो ज़मीन दिखाना कोई मगरूर

जो कहे तो शुरुवात मेरी बताना 
बताना सफर की दुश्वारियां मेरी 
ताकि कोई जो मेरे जैसी ज़मीन से आये उसके 
लिए नदियों की धार हमेशा छोटी ही रहे 

और समुन्दर जितने का ख्वाब उस की आँखों से कभी जाये न 
पर उनसे मेरी गलतियां भी मत छुपाना 
कोई पूछे तो बता देना की किस-दरजे का नाकारा था
कह देना की झुटा था बताना जरुरत पे काम न आसका 
वादे किये पर निभा न सका इन्तेक़ाम सारे पुरे किये 
पर इश्क़ अधूरा ही रहने दिया 
बता देना सबको की वो मतलबी बड़ा था हर बड़े
मक़ाम पे तनहा ही खड़ा था

Ye khat hai us guldan ke nam jis ka phool kabhi hamara tha
vo jo ab tum uske mukhtar ho to sun lo use accha nahi lagta
meri jaan ke haq daar ho to sunlo use accha nahi lagta
ke vo jo zulf bikhere to bikhri na smjha ke agar vo mathe pe aajaye to be-fikri na smjhna 
darasal use aise hi psand hai.
uski zulfo me uski azadi band hai,
ke vo jo zulf bikhere to bikhri na smjha 
ke agar vo mathe pe aajaye to be-fikri na smjhna
darasal use aise hi psand hai.
uski zulfo me uski azadi band hai
jante ho ?
jante ho ?! ke agar vo hazar bar apni julfe na savare to uska guzara nahi hota
jante ho ?! ke agar vo hazar bar apni julfe na savare to uska guzara nahi hota
vase dil bahut saf hai uska, inharkato ka ishara nahi hota
khuda ke waste use kabhi tok na dena uski azadi se use kabhi rok na dena
qki main nahi ab tum uske dildar ho to sunlo use accha nai lagta

ये खत है उस गुलदान के नाम जिस का फूल 
कभी हमारा था 
वो जो अब तुम उसके मुख़्तार हो तो सुन लो उसे 
अच्छा नहीं लगता 
मेरी जान के हक़-दार हो तो सुनलो उसे अच्छा नहीं लगता 
के वो जो ज़ुल्फ़ बिखेरे तो बिखरी न समझना

के अगर वो माथे पे आजायें तो बे-फ़िक्री न समझना
दरसल उसे ऐसे ही पसंद है 
उसकी ज़ुल्फो में उसकी आज़ादी बंद है,
के वो जो ज़ुल्फ़ बिखेरे तो बिखरी न समझना
के अगर वो माथे पे आजायें तो बे-फ़िक्री न समझना
दरसल उसे ऐसे ही पसंद है 
उसकी ज़ुल्फो में उसकी आज़ादी बंद है,

जानते हो ?
जानते हो ?! के अगर वो हज़ार बार अपनी सवारे तो उसका गुज़ारा नहीं होता 
जानते हो ?! के अगर वो हज़ार बार अपनी सवारे तो उसका गुज़ारा नहीं होता 
वैसे दिल बहुत साफ है उसका, इन हरकतों का इशारा नहीं होता 
खुदा के वास्ते उसे कभी टोक न देना उसकी आज़ादी से उसे कभी रोक न देना 
क्योकि मैं नहीं अब तुम उसके दिलदार हो तो सुनलो उसे अच्छा नहीं लगता 

Check to Read part-2

Post a Comment

0 Comments